सिर्फ प्रभु/महापिता हैं। और कुछ नहीं। और कोई नहीं

जन्मस्थान

योगी राम सूरत कुमार ने उत्तर प्रदेश में स्थित गंगा के तट के पास एक छोटे से गांव नर्दारा में 01.12.1918 को अवतार लिया। भक्तों की इच्छा थी कि नर्दारा को भी वही महत्व प्रदान किया जाना चाहिये – क्योंकि वह हमारे हमारे गुरुजी का जन्मस्थान है, जिस प्रकार मथुरा कृष्णा के लिए है और अयोध्या राम के लिए महत्वपूर्ण है। इस यादगार जन्मस्थान का उद्घाटन 28.08.2013 को किया गया था। इसका उद्देश्य नाम संकीर्तन की प्रभावशीलता का प्रचार करना है। अभी भी कई लोग नाम संकीर्तन का वहाँ जाप करते हैं।.